धरती माँ कि सेहत के लिए जैविक खेती करे

Training

जैव विविधता एवं कृषि में हानिकारक कृषि रसायनों के दुष्परिणाम


बीज उपचार की विधि पर कृषको को प्रशिक्षण दिया गया


संकुल अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन दलहन, 2020- 21 के अंतर्गत ग्राम मदनपुर विकासखंड सोहागपुर में कृषकों को अरहर की उन्नत किस्म राजेश्वरी का बीज वितरित किया गया एवं जैविक उर्वरक, फफूंदीनाशक एवं कीटनाशक दवा का वितरण किया गया एवं बीज उपचार की विधि पर कृषको को प्रशिक्षण दिया गया

कृषकों को बीज उपचार विधि पर प्रशिक्षण दिया


कृषि विज्ञान केंद्र गोविंद नगर होशंगाबाद द्वारा राष्ट्रीय खाद सुरक्षा मिशन के अंतर्गत संकुल अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन दलहन अरहर 2020 -21 के अंतर्गत ग्राम खैरी कलाँ विकासखंड पिपरिया में कृषकों को बीज, जैव उर्वरक एवं कीटनाशक दवा का वितरण किया गया एवं कृषकों को बीज उपचार विधि पर प्रशिक्षण दिया गया जिसमें ग्राम के 32 किसान उपस्थित थे यह प्रशिक्षण डॉक्टर देवीदास पटेल द्वारा कृषको को दिया गया

सेवारत प्रशिक्षण


“मक्का की फसल में फाल आर्मी वर्म कीट के प्रबंधन” पर जागरूकता कार्यक्रम संपन्न कराया गया

आर्या परियोजना


कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर, होशंगाबाद द्वारा संचालित आर्या परियोजना के अंतर्गत ग्राम छातेर, बनखेडी में बकरी पालन करने बाले किसान भाइयो को बकरी पालन से सम्बंधित प्रशिक्षण प्रदान किया गया

सब्जी वर्गीय फसलों की संरक्षित खेती एवं उनके समन्वित प्रबंधन पर 10 दिवसीय कौशल विकास प्रशिक्षण


कृषि विज्ञान केंद्र गोविंदनगर होशंगाबाद द्वारा सब्जी वर्गीय फसलों की संरक्षित खेती एवं उनके समन्वित प्रबंधन पर 10 दिवसीय कौशल विकास प्रशिक्षण का आज दिनांक 28/09/2020 का शुभारंभ सरस्वती देवी के समक्ष दीप प्रज्वलन कर किया गया जिसमे प्रशिक्षण के समन्वयक उध्यनिकी वैज्ञानिक श्री लवेश कुमार चौरसिया ने सभी प्रशिक्षणार्थियों का स्वागत किया एवं उनका परिचय लिया मुख्य अतिथि श्री राजकुमार राणा जी ने अपने सम्बोधन में प्रशिक्षणार्थियों को खेती में रुचि लेकर अतीतिरिक्त आय उपार्जन करने का मार्गदर्शन दिया कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी डॉ संजीव कुमार गर्ग ने भी प्रशिक्षणार्थियों को सम्बोधित करते हुए कृषि में नवाचार अपनाने हेतु मार्गदर्शन दिया फिर प्रशिक्षण के निर्देशक एवं कीट वैज्ञानिक ब्रजेश कुमार नामदेव ने सब्जी में बीज उपचार एवं समन्वित कीट एवं रोग प्रबंधन पर पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से विस्तृत जानकारी प्रदान की जिसे प्रशिक्षणार्थियों द्वारा सराहा गया इस कार्यक्रम में होशंगाबाद से बनखेड़ी एवं पिपरिया विकासखंड के 17 प्रशिक्षणार्थी भाग ले रहे है |

बकरी पालन का प्रशिक्षण


आत्म निर्भर भारत को ध्यान में रखते हुए आर्या परियोजना के अंतर्गत खापरखेड़ा में युवाओं को बकरी पालन का प्रशिक्षण प्रदान किया गया ताकि कृषि के साथ साथ अपनी आय को बढ़ा सकें ।